राजनीति

[politics][bigposts]

स्वास्थ्य

[health][bsummary]

ई-न्यूज पेपर

[e-newspaper][twocolumns]

Dy_CM_Keshav_Prasad_Maurya कम लागत पूर्ण पारदर्शिता एवं गुणवत्तापूर्ण ढंग से परियोजनाओं.......

कम लागत पूर्ण पारदर्शिता एवं गुणवत्तापूर्ण ढंग से परियोजनाओं को उतारा गया धरातल पर केशव प्रसाद मौर्य

www.6amnewstimes.com 6एएम नेटवर्क, रविंद्र यादव, लखनऊ 05: 01: 2022 / 08:25 am 



लखनऊः उत्तर प्रदेश में, राज्यों/ जनपदों /विकास खण्डो/ तहसीलों/ ग्राम पंचाचतों/ राजस्व ग्रामों व मजरों से अच्छी रोड कनेक्टिविटी के साथ जनसामान्य को सुगम यातायात की सुविधा प्रदान करने हेतु उप्र के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने मंगलवार को लोक निर्माण विभाग मुख्यालय स्थित विश्वेश्वरैया प्रेक्षागृह में वर्चुअल रूप से प्रदेश के जिलों की रू 10,725 करोड़ की कुल 8413 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया।

शिलान्यास एवं लोकार्पण कार्यक्रम के तहत रू0 5036 करोड़ की लागत से 353 विधानसभा क्षेत्रों की 4703 मार्गों, जिनकी लम्बाई 8737 किमी0 है का तथा रू0 1698 करोड़ की लागत के 79 विधानसभा क्षेत्रों के अन्तर्गत 132 सेतुओं का शिलान्यास किया गया है, जिसमें 100 लघु सेतु व 32 दीर्घ सेतु हैं। इस दौरान 74 सेतुओं व 3503 मार्गों के कार्यों का लोकार्पण भी उपमुख्यमंत्री द्वारा किया गया।



इस अवसर पर उपमुख्यमंत्री श्री मौर्य ने विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिये कि सभी लोकार्पित व शिलान्यास की गयी परियोजनाओं के शिलापट्ट 03 दिन के अन्दर सम्बन्धित साइट पर समारोह आयोजित करते हुये स्थापित किये जांय तथा वहां पर क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों व क्षेत्रीय जनता की भागीदारी अनिवार्य रूप से सुनिश्चित की जाय। 

श्री मौर्य ने कहा कि नेशनल हाईवे, स्टेट हाईवे, मुख्य जिला मार्ग, अन्य जिला मार्ग और जहां पर 7 मी0 तक चैड़ी सड़कें बनी हैं उनसे 5 किमी दूरी तक के गांवों को सम्पर्क मार्गों से जोड़ने का कार्य किया गया है। उन्होने कहा कि 2017 से पूर्व प्रदेश में 6000 किमी राष्ट्रीय राजमार्गों की लम्बाई थी, जो अब बढ़कर 12000 किमी हो गयी है। निर्माण कार्यों में सभी बाधाओं को दूर करते हुये, निर्माण कार्यों को कराया गया है।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि नयी व आधुनिक तकनीक का उपयोग करके अच्छी व गुणवत्तापूर्ण सड़कें तो बनायी ही गयीं हैं, साथ ही साथ बहुत बड़ी धनराशि की बचत भी की गयी है, जिससे गांवों को सम्पर्क मार्गों से जोड़ने में सफलता प्राप्त की गयी है।

उपमुख्यमंत्री द्वारा अवध क्षेत्र के 13 जिलों की 1081 परियोजनाओं, गोरखपुर क्षेत्र के 09 जिलों की 445 परियोजनाओं, काशी क्षेत्र के 10 जिलों के 365 परियोजनाओं, कानपुर एवं बुन्देलखण्ड क्षेत्र के 14 जिलों की 699 परियोजनओं, ब्रज क्षेत्र के 11 जिलों की 737 परियोजनाओं, पश्चिम क्षेत्र के 11 जिलों की 154 परियोजनाओं का लोकार्पण किया गया तथा पश्चिम क्षेत्र की 620 परियोजनाओं, ब्रज क्षेत्र की 630 परियोजनाओं, कानपुर एवं बुन्देलखण्ड क्षेत्र की 696 परियोजनाओं, अवध क्षेत्र की 1045 परियोजनाओं, गोरखपुर क्षेत्र की 851 परियोजनाओं तथा काशी क्षेत्र की 805 परियोजनाओं का शिलान्यास किया गया।

लोक निर्माण विभाग द्वारा वर्तमान सरकार के कार्यकाल में किये गये कार्यों पर प्रकाश डालते हुये श्री मौर्य ने कहा कि 2001 की जनगणना के आधार पर 250 से अधिक आबादी की कुल लक्षित 1557 राजस्व ग्रामों के सापेक्ष 1550 राजस्व ग्रामों को सम्पर्क मार्गों से जोड़ा गया है। 2011 की जनगणना के आधार पर 250 से अधिक आबादी के लक्षित 297 राजस्व ग्रामों में से 173 राजस्व ग्रामों को सम्पर्क मार्गों से जोड़ा गया है। 7 मी0 से अधिक चैड़े मार्गों के 5 किमी0 की परिधि में आने वाले 250 से अधिक आबादी की 1729 ग्रामों/बसावटों को रोड कनेक्टिविटी दी गयी है। 25 तहसील मुख्यालयों व 108 विकासखण्ड मुख्यालयों को 02 लेन मार्ग से जोड़ा गया है। केन्द्रीय मार्ग निधि के तहत 114 कार्य किये गये हैं। अन्तर्राष्ट्रीय/अन्तर्राज्जीय सीमा वाले कुल निर्माणाधीन 86 मार्गों में से 62 मार्गों के निर्माण का कार्य पूरा किया जा चुका है। प्रदेश के महत्वपूर्ण मार्गों की श्रेणी परिवर्तित करते हुये 70 नये राजमार्ग व 57 नये प्रमुख जिला मार्ग घोषित किये गये हैं। लोक निर्माण विभाग व सेतु निगम द्वारा 145 दीर्घ सेतु, 379 लघु सेतु और 60 आर0ओ0बी0, बनवाये गये हैं। रू0 50 करोड़ से अधिक के लागत के विभिन्न विभागों के 94 कार्यों में से 46 कार्य स्वीकृत हैं, जो, ई0पी0सी0 मोड पर कराये जा रहे हैं।


श्री मौर्य ने कहा कि चैधरी चरण सिंह कांवड़ पथ 100 किमी0, अयोध्या 84 कोसी परिक्रमा मार्ग 250 किमी0 एवं राम वन गमन मार्ग 122 किमी0 के कार्य प्रक्रियाधीन हैं। उन्होने कहा कि अन्तर्राष्ट्रीय व अन्तर्राज्जीय सीमाओं पर भव्य व आकर्षण द्वार बनाये जाने की प्रक्रिया चल रही है। चाणक्य, विश्वकर्मा व प्रहरी साॅफ्टवेयर का प्रयोग करके विभाग की कार्य प्रणाली को बहुत ही पारदर्शी बनाया गया है। दुर्घटनाओं में कमी लाने हेतु रोड सेफ्टी के बहुत ही अच्छे कार्य किये गये हैं। श्री केशव प्रसाद मौर्य ने अपने सारगर्भित, ओजस्वी व अर्थपूर्ण सम्बोधन में सौभाग्य योजना, उज्जवला योजना, आयुष्मान योजना, घरौनी स्वामित्व प्रमाण पत्र, गरीब कल्याण अन्न योजना, किसान सम्मान निधि जैसी ग्रामोन्नमुखी व बहुमुखी विकास की योजनाओं की भी चर्चा की।

इस अवसर पर राज्यमंत्री लोक निर्माण विभाग चन्द्रिका प्रसाद उपाध्याय ने कहा कि उपमुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में प्रदेश में लोक निर्माण विभाग के कार्यों में ऐतिहासिक प्रगति हुयी है, अच्छी और गुणवत्तापूर्ण सड़कों के निर्माण से जनता को अपने गंतव्य स्थल तक पहुंचने में आसानी तो हो ही रही है, साथ ही समय की बचत भी हो रही है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें