Ticker

6/recent/ticker-posts

Cast Polytics : प्रदेश के 39 जिलों में 46 शीर्ष अधिकारी ठाकुर हैं, क्या सच का आइना दिखाना देशद्रोह है? संजय सिंह

 प्रदेश के 39 जिलों में 46 शीर्ष अधिकारी ठाकुर हैं, क्या सच का आइना दिखाना देशद्रोह है? संजय सिंह 

#6AM_NEWS_TIMES डेली न्यूज़ पेपर #लखनऊ_से_प्रकाशित। 


लखनऊ। देशद्रोह का केस दर्ज होने के बाद लखनऊ पहुंचे सांसद संजय सिंह ने रविवार को लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस के दौरान योगी सरकार पर जमकर बोला हमला, कहा- प्रदेश के 39 जिलों में 46 शीर्ष अधिकारी ठाकुर हैं, क्या सच का आइना दिखाना देशद्रोह है ?


आम आदमी पार्टी के सांसद और उप्र के प्रभारी संजय सिंह ने कहा कि पूर्ववर्ती समाजवादी पार्टी की सरकार में जहां पूर्व सीएम अखिलेश यादव पर एक जाति विशेष को बढ़ावा देने का आरोप लगता था वहीं अब वर्तमान की योगी सरकार को भी विपक्ष लगातार कटघरे में खड़ा कर रहा है। 


आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद और उत्तर प्रदेश के प्रभारी संजय सिंह ने लखनऊ पार्टी कार्यालय पर पत्रकारों से बातचीत के दौरान यह बातें कही। संजय ने कहा, ''मैंने एक सर्वे कराया था। सर्वे में पूछा गया था कि क्या योगी सरकार जातिवादी है ? ठाकुरवादी है ? 63 फ़ीसदी जनता ने हां कहा था और 29 फीसदी ने ना। बाकी लोगों ने अपनी राय देने से मना कर दिया था। इसी सर्वे के कारण पिछले दिनों योगी सरकार ने प्रदेश में मेरे खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज किया।''


योगी जी ने मुझे देशद्रोही बना दिया


संजय सिंह ने कहा कि योगी जी ने मुझे देशद्रोही घोषित कर दिया।लेकिन आज मैं तथ्यों व आंकड़ों के साथ जानकारियां देने जा रहा हूं जिससे प्रदेश की जनता की आंखें खुल जाएंगी। जो देशद्रोह का मुकदमा लिखा गया है उसकी सच्चाई का पता चल जाएगा। कि मैं झूठ बोल रहा हूं या योगी सरकार दुर्भावना और द्वेष की राजनीति कर रही है। क्या यही भाजपा का रामराज्य है क्या यही योगी का रामराज्य है योगी जी क्षत्रिय वह नहीं है जो खुद के लिए काम करें बल्कि छत्रिय वह है जो सभी को छत्र अर्थात सुरक्षा प्रदान करें।


संजय सिंह ने कहा, "योगी जी आपने मुख्यमंत्री बनते समय संविधान की शपथ ली थी सांसद होने के नाते मैंने भी उसी संविधान की शपथ ली है। प्रदेश की 24 करोड़ जनता के साथ अन्याय और अत्याचार नहीं होने दूंगा। सत्ता के बदौलत जातिवाद और ठाकुर वाद को नहीं होने दिया जाएगा। योगी जी आप ठाकुरों के लिए काम कीजिए, लेकिन दूसरी जातियों की उपेक्षा मत कीजिए। उनके साथ अन्यायपूर्ण रवैया मत अपनाइये। प्रदेश की 24 करोड़ जनता का ख्याल रखिए। नोटिस, मुकदमा और गिरफ्तारी से मैं डरने वाला और जाकर घर में छिपने वाला नहीं हूं। आप चाहे कितना भी मुकदमा दर्ज करो, आवाज बुलंद करता रहूंगा।"

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ