राजनीति

[politics][bigposts]

स्वास्थ्य

[health][bsummary]

ई-न्यूज पेपर

[e-newspaper][twocolumns]

महोबा पूर्व एस पी मणिलाल पाटीदार और थाना इंचार्ज देवेंद्र शुक्ला पर हत्या का आरोप, "तलाश में इनके महकमे की ही टीमें"

 महोबा पूर्व एस पी मणिलाल पाटीदार और थाना इंचार्ज देवेंद्र शुक्ला पर हत्या का आरोप। तलाश में इनके महकमे की ही टीमें।

                     फोटो सोशल मीडिया से साभार 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में एक आईपीएस अधिकारी पर हत्या का आरोप है. एक व्यापारी ने इस पुलिस अधिकारी पर हत्या धमकी देने और फिरोती मांगने गंभीर आरोप लगाए थे. जिसके 24 घंटे के अंदर की व्यापारी पर हमला हुआ और कानपुर के अस्पताल में उनकी मौत गई.  आरोपी पुलिस अधिकारी का नाम मणिलाल पाटीदार है जो कि महोबा जिले के पूर्व एसपी थे. व्यापारी की गर्दन में गोली लगी थी और उनकी कार महोबा टाउन के हाईवे पर मिली थी, अस्पताल में गंभीर हालात में उनकी मौत हुई.

मणिलाल पाटीदार जिन्हें पिछले सप्ताह यूपी सरकार ने भ्रष्टाचार के आरोपों में निलंबित कर दिया था, पहली बार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश पर जबरन वसूली के आरोप ये कार्रवाई की गई थी. मृत व्यवसायी के परिवार की एक शिकायत के आधार पर, बाद में इस एसपी पर हत्या और साजिश रचने का आरोप लगाया गया था. लेकिन इस अधिकारी को अभी तक किसी भी मामले में गिरफ्तार नहीं किया गया है

पुलिस ने अभी तक उनसे या अन्य पुलिस से पूछताछ नहीं की है जिनके नाम एफआईआर में दर्ज हैं, एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने आज दावा किया कि पुलिस अधीक्षक एसपी लापता हैं और पुलिस की टीमें उनकी तलाश में हैं.

इंद्रकांत त्रिपाठी के रूप में पहचाने जाने वाले कारोबारी को गोली किसने मारी यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो सका है कि कैसे हाइवे पर उसकी ऑडी के अंदर उसकी गर्दन में गोली लगने से हुई मौत। 

अतिरिक्त महानिदेशक प्रयागराज जोन प्रेम प्रकाश ने मीडिया को बताया कि जब से व्यवसायी की मृत्यु हुई है, हत्या के प्रयास के मामले से यह अब हत्या का मामला बन जाएगा. हम उन्हें पूछताछ के लिए लाएंगे क्योंकि यह एक बहुत ही गंभीर मुद्दा है। लेकिन क्योंकि एसपी उपलब्ध नहीं है हमने उनकी और एफआईआर में दर्ज अन्य नाम के लोगों की तलाश के लिए एक टीम भेजी है. हम उनसे सवाल करेंगे

खनन के लिए विस्फोटकों का सौदा करने वाले त्रिपाठी ने अपनी मृत्यु से पहले सोशल मीडिया पर एक वीडियो बयान जारी किया, जिसमें उसने पाटीदार पर अवैध वसुली, धमकी और डराने के आरोप लगाए और कहा था कि अगर वह किसी भी तरह से मर गए तो अधिकारी को दोषी ठहराया जाना चाहिए






कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें