Ticker

6/recent/ticker-posts

Deputy CM, मा केशव प्रसाद मौर्य के मार्गदर्शन में ग्राम्य विकास विभाग ने महिला स्वावलंबन व सशक्तीकरण की दिशा में उठाए महत्वपूर्ण कदम।

प्रथम 6 माह मे 2लाख 65हजार महिलाओं को दिया प्रशिक्षण  .

श्री मौर्य के मार्गदर्शन में ग्राम्य विकास विभाग ने महिला स्वावलंबन व सशक्तीकरण की दिशा में उठाए महत्वपूर्ण कदम। 

6AM_NEWS_TIMES : Edited by. Ravindra yadav Lucknow 9415461079, 30,Sep, 2022 : Fri, 07 : 15 AM,



लखनऊ : 30 सितम्बर 2022

उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के कुशल दिशा निर्देशन में ग्राम्य विकास विभाग द्वारा महिला स्वावलंबन व सशक्तीकरण की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाए जा रहे हैं। 

राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत पिछले 6माह मे 2651409 महिलाओं को विभिन्न आयामों में प्रशिक्षण दिया गया है। राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन से प्राप्त जानकारी के अनुसार। 

वित्तीय वर्ष 2022-23 के 06 माह मे 80509 नए स्वयं सहायता समूहों का गठन पूर्ण कर लिया गया है, जिसमे 8,85,599 महिलाओं को आच्छादित किया गया। 

मिशन अंतर्गत कुल 643854 स्वयं सहायता समूह गठित करते हुए 6712985 महिलाओं को आच्छादित किया जा चुका है। 

योगी सरकार 02, के प्रथम 06 माह में 10109 नए ग्राम संगठनों का गठन पूर्ण किया। अब तक राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन अंतर्गत कुल 33194 ग्राम संगठन एवं 1836 संकुल स्तरीय संघ गठित किये जा चुके हैं। 

वित्तीय वर्ष 2022-23 के 06 माह में अभी तक 80509 स्वयं सहायता समूह की महिला सदस्यों को प्रशिक्षण दिया गया, एवं 10109 ग्राम संगठनों की 10,10,900 महिला सदस्यों को प्रशिक्षण दिया गया है। इसी प्रकार से मिशन द्वारा 520 संकुल स्तरीय संघ की 1560000 महिला सदस्यों को प्रशिक्षण दिया गया है। 

अब तक कुल 2651409 महिलाएं विभिन्न आयामों में प्रशिक्षण प्राप्त कर चुकी हैं। अभी तक 82433 समूहों को रिवोल्डिंग फण्ड की रू. 123.64 करोड़ की धनराशि निर्गत की गयी एवं 4155 समूहों को रू. 45.71 करोड़ की सामुदायिक निवेश निधि प्रदान की। 

अब तक मिशन अंतर्गत कुल 511285 समूहों को रिवाल्डिंग फण्ड के रूप में रु० 768.56 करोड़ की धनराशि निर्गत की है एवं 297151 समूहों को सामुदायिक निवेश निधि के रूप में रु० 3241.33 करोड़ की धनराशि निर्गत की है।

अब तक 35620 स्वयं सहायता समूहों को बैंक क्रेडिट लिंकेज के माध्यम से 356.20 करोड़ का ऋण उपलब्ध कराया जा चुका है। 

6 माह में पात्र 6084 ग्राम संगठनों के अंतर्गत समूह की महिलाओं हेतु रु० 56 करोड़ जोखिम निवारण निधि के रूप में निर्गत किया जा चुका है।

 आजीविका संवर्धन के क्षेत्र में कार्य करते हुए 06 माह में 600 प्रोड्यूसर ग्रुप का गठन पूर्ण हो चुका है।





🚩✔️🚩✔️🚩✔️🚩✔️🚩✔️🚩✔️🚩✔️🚩✔️

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ