राजनीति

[politics][bigposts]

स्वास्थ्य

[health][bsummary]

ई-न्यूज पेपर

[e-newspaper][twocolumns]

Prayagraj_SSP : अजय कुमार खुद टॉपर रहे, 45 स्कूलों की सूरत बदल दी...

प्रयागराज SSP का पदभार अजय कुमार पांडेय के कन्धों पे खुद प्राथमिक विद्यालय से की पढ़ाई। और 45 स्कूलों की बदल दी सूरत 

www.6amnewstimes.com 6एएम नेटवर्क, रविंद्र यादव, लखनऊ 05: 01: 2022 / 05:55 am


प्रयागराज बस्ती के रहने वाले हैं अजय कुमार ने मंगलवार को प्रयागराज में एसएसपी का पदभार ग्रहण कर लिया है । अजय कुमार को प्रयागराज का नया वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक  बनाया गया है । अभी तक वे हरदोई के एसएसपी थे । मंगलवार को उन्होंने अपना पदभार ग्रहण कर लिया । पदभार ग्रहण करने के बाद उन्होंने कहा कि शहर में क्राइम कंट्रोल करना व माघ मेला सकुशल संपन्न करना सबसे बड़ी प्राथमिकता है । उन्होंने आईआईटी कानपुर से बीटेक की पढ़ाई की है । वह मूलत  बस्ती के रहने वाले हैं । उन्होंने दुबई में 45 लाख रुपये के पैकेज की नौकरी छोड़कर आईपीएस की नौकरी चुनी थी । उन्हें अच्छे बेहतर काम के लिए डीजीपी का डीजीपी प्रशंसा चिन्ह भी प्रदान किया जा चुका है । अभी तक सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी प्रयागराज के एसएसपी पद का कार्य देख रहे थे ।


खाड़ी देश में थे इंजीनियर , नौकरी छोड़कर बने IPS अफसर अजय कुमार ने कानुपर आईआईटी से बीटेक करने के बाद खाड़ी देश में एक मल्टीनेशनल कंपनी में 45 लाख रुपये वार्षिक पैकेज पर नोकरी कर ली थी । कुछ साल नौकरी करने के बाद जब मन नहीं लगा तो नोकरी छोड़कर प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी शुरू कर दी । प्रशासनिक सेवा में उनका यह पहला और आखिरी प्रयास था। सिविल सर्विसेज की तैयारी कर उन्होंने पहले और आखिरी प्रयास में 108 वीं रैंक हासिल कर अपनी मेहनत का लोहा मनवा दिया। अजय कुमार ने आईआईटी कानपुर से बीटेक किया हिंदी , अंग्रेजी , उर्दू और संस्कृत विषय में है समान पकड़ खास बात यह है कि अजय कुमार केवल तकनीकी ज्ञान ही नहीं रखते । उन्होंने हिंदी , उर्दू , अंग्रेजी और संस्कृत भाषा पर समान रूप से कमांड हासिल किया है । अजय कुमार बस्ती जिले के देऊरा पुरा गांव के रहने वाले हैं । 

पिता वंश बहादुर पांडेय ने कहा कि कि अजय कुमार पांडेय ने गांव के ही प्राथमिक विद्यालय से पढ़ाई की है । स्कूल गोद लिया और बदल दी सूरत अजय कुमार जब फिरोजाबाद के एसएसपी थे तो उन्होंने तत्कालीन डीएम रहीं नेहा शर्मा के आग्रह पर एक माध्यमिक विद्यालय को गोद लिया था गोद लेने से पहले स्कूल की छत भी नहीं थी । आज इस विद्यालय को शहर के आदर्श विद्यालयों में गिना जाता है । इसके बाद अजय अबतक विभिन्न जिलों में रहते हुए 45 स्कूलों की सूरत बदलने का काम किया है । उनकी गिनती तेज तर्रार और इनोवेटिव आईपीएस अधिकारी के रूप में की जाती है । दैनिक भास्कर से साभार। 





।।।। ।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें