Ticker

6/recent/ticker-posts

Kanpur #Criminals। जय बाजपेई की पत्नी श्वेता सबसे छुपकर करती थी ये काम चौंकाने वाला खुलासा।


विकास दुबे कानपुर वाला। जय बाजपेई की पत्नी श्वेता सबसे छुपकर करती थी ये काम चौंकाने वाला खुलासा। 




लखनऊ: विकास दुबे के खजांची जय बाजपेई की पत्नी में बारे बड़ा खुलासा हुआ है। मिली जानकारी के मुताबिक वह एक गरीब परिवार से है और कोई का आय स्त्रोत नहीं है। अधिवक्ता सौरभ भदौरिया ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) लखनऊ की टीम के सामने खुलासा किया है कि फर्जी आईटीआर भरकर काली कमाई को सफेद करने का अवैधधंधा चलता है। अवैध कारोबार की सारी जानकारी इनके लैपटॉप व डायरी में हैं।

सौरभ ने ईडी के संयुक्त निदेशक को शपथपत्र सौंपा है। इसमें उन्होंने गैंगस्टर जय बाजपेई व गिरोह के लोगों द्वारा सट्टा कारोबार, बीसी व्यापार, ब्याज पर रुपये देने आदि के कार्यों में लिप्त होने के आरोप लगाए। उन्होंने आगे कहा है कि जय बाजेपई और विकास दुबे ने कई सरकारी जमीनों को पुलिसकर्मियों की मदद से बेच भी दिया है। 

गैंगस्टर विकास दुबे के खजांची जय बाजपेई, उसकी पत्नी, भाइयों व गैंग से जुड़े लोगों की 129 संपत्तियों का ब्योरा आरटीआई एक्टिविस्ट अधिवक्ता सौरभ भदौरिया ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को सौंपा है। ईडी ने सोमवार को जय समेत 36 लोगों के खिलाफ मनी लांड्रिंग का केस दर्ज किया था।


इसमें सौरभ को सरकारी गवाह बनाया जाएगा। दिल्ली से विवेचक गुरुवार को जांच करने लखनऊ पहुंच सकते हैं। सौरभ ने ईडी को शपथपत्र सौंपकर जय गैंग द्वारा अवैध रूप से कमाई गई संपत्तियों और काले कारनामों का खुलासा कर जांच की मांग की है।

कहा कि जय की लक्ष्मी कार एसेसरीज, लक्ष्मी बॉडी व लक्ष्मी इलेक्ट्रिकल्स ये तीनों शोरूम वर्ष 2017 से 2019 के बीच खोले गए। जय की ज्यादातर संपत्तियां वर्ष 2017 से पूर्व या उसके आसपास खरीदी गई हैं। तब तक जय कोई व्यापार नहीं करता था।


 गैंगस्टर ने संरक्षणदाता पुलिसकर्मियों के नाम पर भी कई संपत्तियां खरीदी हैं। विकास दुबे, गैंगस्टर जय बाजपेई, उसके खास साथी व भाजपा नेता की फर्रुखाबाद, लखीमपुर खीरी, सीतापुर, बिल्हौर आदि में स्थित 23 संपत्तियों का ब्योरा भी साक्ष्य के रूप में सौरभ ने ईडी को सौंपा।

इतनी जल्दी लग्जरी गाड़ियां, आवासीय मकान व संपत्तियां कैसे अर्जित कर ली गईं। सौरभ ने दो दर्जन लोगों के नामों का खुलासा कर उन पर विकास दुबे की काली कमाई सफेद करने में जय का सहयोग करने की बात कही। सौरभ ने जय के बीसी के कारोबार का भी भंडाफोड़ किया।

सौरभ का कहना है कि न्यायिक आयोग ने भी जांच तेज कर दी है। बिकरू कांड में शहीद हुए आठ पुलिसककर्मियों के परिजनों के अलावा जेल में बंद 36 अन्य आरोपियों को नोटिस भेजा गया है। इसी सप्ताह सभी के बयान आयोग दर्ज करेगा।


बता दें कि बिकरू कांड के मुख्य आरोपी विकास दुबे के करीबी जय बाजपेई को पुलिस ने पूछताछ के लिए हिरासत में लिया था। बिकरू कांड की साजिश में शामिल होने के आरोप में उसे जेल भेज दिया गया। उसकी कई संपत्तियों को सीज कर दिया गया है। जय और उसके भाईयों के पासपोर्ट भी रद्द करने की प्रक्रिया शुरु कर दी गई है।




एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ