राजनीति

[politics][bigposts]

स्वास्थ्य

[health][bsummary]

ई-न्यूज पेपर

[e-newspaper][twocolumns]

Cast Polytics : पुलिस एनकाउंटर में मारे गए शातिर अपराधी अमर दुबे की पत्नी खुशी के परिजन से मिले ब्राह्मण महासभा के अध्यक्ष।

 कानपुर शूटआउट पे अब कास्ट पॉलीटिक्स : पुलिस एनकाउंटर में मारे गए शातिर अपराधी अमर दुबे की पत्नी खुशी के परिजन से मिले ब्राह्मण महासभा के अध्यक्ष। 

6AM NEWS TIMES :21:09:2020 10:20 AM


 योगी सरकार पर प्रतिशोध के तहत कार्रवाई करने का लगाया आरोप। 

कानपुर ब्राह्मण महासभा के पदाधिकारियों ने खुशी का मुकदमा लड़ने के साथ परिवार को हर संभव मदद का दिया भरोसा । खुशी के पति अमर दुबे का 8 जुलाई को हमीरपुर में हुआ था। 

एनकाउंटर 9 जुलाई को पुलिस ने खुशी को जेल भेजा था , दो सितंबर को कोर्ट ने उसे नाबालिग माना गैंगस्टर विकास दुबे के खास साथी अमर दुबे की पत्नी खुशी को लेकर सियासत शुरू हो गई है । रविवार को अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजेंद्र नाथ त्रिपाठी ने खुशी के परिजन से मुलाकात की और अपने खर्चे पर मुकदमा लड़ाने की बात कही । 



इस दौरान लोगों ने योगी सरकार को ब्राह्मण विरोधी करार दिया गया । प्रतिशोध की भावना से काम कर रही सरकार। यह भी कहा कि , ब्राह्मण महासभा अपने खर्चे पर खुशी दुबे का मुकदमा लड़ेगी और उसको न्याय दिलाएगी । परिवार के साथ ब्राह्मण महासभा का हर एक पदाधिकारी खड़ा है और आपके साथ कदम से कदम मिलाकर बेटी को न्याय दिलाकर रहेगा। त्रिपाठी ने योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि योगी सरकार प्रतिशोध की भावना से काम कर रही है । बेगुनाह ब्राह्मण की बेटी खुशी को शादी के दो दिन बाद ही जेल भेजकर पुलिस ने अत्याचार की पराकाष्ठा कर दी है । योगी सरकार ब्राह्मण विरोधी है । इस सरकार में ब्राह्मणों पर हो रहे अत्याचार चरम पर हैं । हम पूरा विश्वास दिलाता हूं कि ब्राह्मण विरोधी सरकार के खिलाफ हम सब डटकर खड़े हैं ।

 पूरा मामला। 

खुशी की शादी 29 जून को अमर दुबे की शादी कल्यानपुर में रहने वाले श्यामलाल तिवारी की बेटी खुशी से हुई थी । शादी के महज तीन दिनों के बाद दो जुलाई की रात विकास दुबे के घर पर चौबेपुर पुलिस ने दो दो अन्य थाना क्षेत्रों की पुलिस के साथ दबिश दी । लेकिन पहले से घात लगा कर बैठे विकास दुबे और उसके साथियों ने पुलिस टीम पर हमला कर सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी । इसके बाद 8 जुलाई को हमीरपुर के मौदहा में अमर दुबे यूपी एसटीएफ के एनकाउंटर में मारा गया था । वहीं , शूटआउट की साजिश में शामिल होने का आरोप लगाकर पुलिस ने अमर दुबे की पत्नी खुशी को जेल भेज दिया था । दो सितंबर को किशोर न्याय बोर्ड ने खुशी को नाबालिग करार दिया । वर्तमान में वह बाराबंकी जिले में बाल गृह में है । मुख्य आरोपी विकास दुबे भी मारा गया था अमर दुबे की पत्नी के भी शामिल होने के सबूत पुलिस को मिले थे । जिसके बाद पुलिस ने 9 जुलाई को पुलिस ने खुशी दुबे को गिरफ्तार किया था । पहले सबूत न मिलने की वजह से खुशी को रिहा किया जा रहा था , लेकिन बाद में एक कॉल रिकॉर्डिंग से खुशी के शामिल होने की बात सामने आई थी । बता दें कि इस शूटआउट का मुख्य आरोपी विकास दुबे का 10 जुलाई को एनकाउंटर हुआ था ।





कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें