Ticker

6/recent/ticker-posts

ग्रामीण पेयजल योजना , नमामि गंगे परियोजना , लघु सिंचाई तथा भू - गर्भजल विभाग की योजनाओं की समीक्षा।

 जलशक्ति मंत्री ने आज वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से ग्रामीण पेयजल योजना , नमामि गंगे परियोजना , लघु सिंचाई तथा भू - गर्भजल विभाग की योजनाओं की समीक्षा की। 



परियोजनाओं को गुणवत्तापूर्ण एवं समयबद्धता के अनुसार पूरा किया जाए विन्धय क्षेत्र में मिर्जापुर एवं सोनभद्र जनपदों के 3379 राजस्व गांव में पेयजल उपलब्ध कराने हेतु 5244 करोड़ रूपये की योजना लागू की गयी प्रदेश सरकार द्वारा बुन्देलखण्ड क्षेत्र के सभी बस्तियों में शुद्ध एवं सुरक्षित पेयजल उपलब्ध 10,479 करोड़ रूपये की पेयजल योजना प्रारम्भ की गयी अटल भूजल योजना में गुणवत्तापूर्ण एवं समय से कार्य पूर्ण कराये जाए। 

उ.प्र.ग्राउण्ड वाटर मैनेजमेंट एंड रेगुलेशन एक्ट 2019, अधिनियम को शत - प्रतिशत लागू किया जाए -जलशक्ति मंत्री डा 0 महेन्द्र सिंह 



लखनऊ : 09 सितम्बर , 2020 उत्तर प्रदेश के जलशक्ति मंत्री डा 0 महेन्द्र सिंह ने कहा कि सभी परियोजनाओं को गुणवत्तापूर्ण एवं समयबद्धता के अनुसार पूरा किया जाए । उन्होंने कहा कि ग्रामीण पेयजल आपूर्ति के अन्तर्गत जलजीवन मिशन , ग्रामीण पेयजल , तथा बुन्देलखण्ड पैकेज के अन्तर्गत जो कार्य स्वीकृत हुये है उन्हें समय से पूरा किया जाए । जलशक्ति मंत्री आज वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से ग्रामीण पेयजल योजना , नमामि गंगे परियोजना , लघु सिंचाई तथा भू – गर्भजल विभाग की योजनाओं की समीक्षा कर रहे थे । उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा बुन्देलखण्ड क्षेत्र के जनपद झांसी , महोबा , ललितपुर , जालौन , हमीरपुर , बांदा तथा चित्रकूट के 4613 राजस्व ग्रामों के ग्रामीण क्षेत्रों के पेयजल से अनाच्छादित सभी बस्तियों में शुद्ध एवं सुरक्षित पेयजल उपलब्ध कराने की महत्वाकांक्षी पयेजल योज प्रारम्भ की गयी है । इस योजनाओं की कुल लागत 10,479 करोड़ रूपये है । जिससे 64 लाख की आबादी लाभान्वित होगी । उन्होंने कहा कि इसी प्रकार विन्धय क्षेत्र मिर्जापुर एवं सोनभ 2/3 3379 राजस्व गांवों में पेयजल उपलब्ध कराने हेतु 5228 करोड़ रूपये की पा ॥ लागू की गयी है । जिससे 40 लाख की आबादी लाभान्वित होगी । उन्होंने कहा कि सभी 1 योजनाओं पर शीघ्र ही कार्य प्रारम्भ कर दिया जाए । जिससे भारत सरकार द्वारा पूर्ण करने की जो तिथि निर्धारित की गयी है उसके अनुरूप उन्हें पूरा किया जा सके । उन्होंने कहा कि योजनाओं की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिया जाए तथा कही भी लापरवाही न हो ।

जलशक्ति मंत्री ने नमामि गंगे परियोजना की समीक्षा करते हुए कहा कि मथुरा , रामनगर , वाराणसी , मिर्जापुर , इटावा , कासगंज , फिरोजाबाद , कानपुर तथा प्रयागराज में कराये जा रहे कार्यों की प्रगति में तेजी लायी जाए प्रत्येक योजना को निर्धारित समय सीमा के अन्तर्गत पूरा किया जाए । समय सीमा को न बढ़ाया जाए तथा सीवेज के कार्यों को समय से पूरा किया जाए । उन्होंने कहा कि प्रत्येक एस टी पी पर कैमरा लगाया जाए जिससे मुख्यालय से भी उनका पर्यवेक्षण किया जा सके । उन्होंने कहा कि एस टी पी की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिया जाए तथा जहां पर भी कार्य चल रहे है वहां पर भी 04 कैमरे लगाये जाए । नालों की मॉनिटरिंग किया जाए तथा एस टी पी नियमित चल रही है कि नहीं उसकी भी समीक्षा की जाए । उन्होंने कहा कि थर्ड पार्टी चैकिंग की जांच की जाए तथा विलम्ब के कारणों की समीक्षा की जाए । 

जलशक्ति मंत्री ने लघु सिंचाई विभाग के कार्यों की समीक्षा करते हुए कहा कि तालाब एवं चैकडैमों की नियमित जांच कराये । तालाब एवं चैकडैम जहां आवश्यक हो वहां का प्रस्ताव भेजे ।


 जनप्रतिनिधियों से प्राप्त प्रस्तावों को भी भेजा जाए । सभी तालाबों एवं चैकडैमों की जियोटैगिंग करायी जाए तथा चैकडैमों एवं तालाबों पर कैमरे भी लगाये जाए तथा अधिक से अधिक कार्य मनरेगा के अन्तर्गत कराया जाए । उन्होंने कहा कि निशुल्क बोरिंग योजना की शिकायते नहीं आनी चाहिए । किसानों को कोई असुविधा नहीं होनी चाहिए । जलशक्ति मंत्री ने भू - गर्भ जल विभाग की समीक्षा करते हुए कहा कि अटल भू - जल योजना में 10 जनपद चयनित हैं इस योजना में अच्छा कार्य होना चाहिए । 

जिससे देश में उत्तर प्रदेश को प्रथम स्थान प्राप्त हो सकें । उ.प्र.ग्राउण्ड वाटर मैनेजमेंट एंड रेगुलेशन एक्ट 2019 , अधिनियम को शत - प्रतिशत लागू किया जाए । उन्होंने कहा कि पीजोमीटर सही लगना चाहिए । इसकी नियमित समीक्षा करे । उन्होंने कहा कि इजराइल के साथ जो एम ओ यू  हुआ है उस पर शीघ्र कार्य प्रारम्भ कर दिया जाए । 2 इस अवसर पर प्रमुख सचिव नमामि गंगे , पेयजल योजना , लघु सिंचाई तथा भू - गर्भ जल विभाग , श्री अनुराग श्रीवास्तव प्रबन्ध निदेशक जल निगम श्री विकास गोठलवाल , विशेष सचिव नमामि गंगे श्री शत्रुध्न सिंह तथा अधिशासी निदेशक जल परियोजना श्री सुरेन्द्र राम सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे ।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ