राजनीति

[politics][bigposts]

स्वास्थ्य

[health][bsummary]

ई-न्यूज पेपर

[e-newspaper][twocolumns]

Jal Shakti Mantri Dr Mahendra Singh ; जल संरक्षण , संचयन एवं संवर्धन तथा वृक्षारोपण करें ये वरदान स्वरुप हमारे पूर्वजों से हमें मिला.....

 जल संरक्षण , संचयन एवं संवर्धन तथा वृक्षारोपण करे ये वरदान स्वरुप हमारे पूर्वजों से हमें मिला है यही आने वाली पीढ़ियों के लिए अनमोल धरोहर है डॉ महेन्द्र सिंह 

 RAVINDRA YADAV, 6am news times Lucknow,28/03 /2021 : 9415461079 

लखनऊ, दीन दयाल उपाध्याय राज्य ग्राम्य विकास संस्थान , बख्शी का तालाब, के मध्य भूगर्भ जल विभाग, उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा प्रायोजित अटल भूजल योजनान्तर्गत तीन दिवसीय ओरिएन्टेशन कार्यशाला आयोजित किया गया था।

कार्यक्रम के समापन के अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में पधारे, डॉ महेन्द्र सिंह मंत्री जल शक्ति उ. प्र. ने अपने सम्बोधन में कहा कि यह योजना अभी 10 जिलों तक सीमित है अगले वित्तीय वर्ष 2021-22 में प्रदेश के सभी जनपदों में संचालित की जायेंगी। डाॅ महेन्द्र सिंह, अपने सम्बोधन में जल की महत्ता पर प्रकाश डाला उन्होंने बताया कि जल बचाना हमारा धर्म एवं कर्म दोनों हैं, जीवन में कुछ करना है, तो जल के प्रति संरक्षण , संचयन एवं संवर्धन तथा वृक्षारोपण कर आने वाले दिनों में अपनी आने वाली पीढ़ी के लिए कुछ दे सकते हैं । उन्होंने बताया कि भूगर्भ जल केवल निकालते रहने से एक समय ऐसा आयेगा कि धरती मां के पास जन मानस को पानी देने के लिए नहीं बचेगा। तब जीवन की महत्ता समझ में आयेगी। उन्होंने बताया कि कल होलिका दहन का त्योहार है इस हमें नयी उमंग के सथ मनाना है , लेकिन यदि पानी नहीं होगा तो होली का रंग किसमें घुलेगा ? इसलिए हम सभी को यह संकल्प लेना है कि पानी को कैसे बचाना है , लोगों को यही समझाना है ।

अतिथियों व प्रतिभागियों का स्वागत एवं आभार सम्बोधन संस्थान केअपर निदेशक डॉ.डी.सी. उपाध्याय ने किया।

 डॉ उमेश बालपाण्डे , निदेशक अटल भूजल योजना, एन. पी.एम.यू. ने अपने सम्बोधन में बताया कि उत्तर प्रदेश अटल भूजल योजना लागू करने में बहुत अच्छी पहल कर रही है। आने वाले दिनों में यह योजना धरातल पर परिलक्षित होगी। प्रमुख सचिव , नमामि गंगे एवं जलापूर्ति विभाग, उ. प्र. द्वारा बताया कि यह महत्वपूर्ण योजना पूरे प्रदेश में अगले वित्तीय वर्ष से लागू होगी । आपके सक्रिय सहभागिता से यह योजना बहुत दूर तक पहुंचेगी । 

 इस कार्यशाला में जिला क्रियान्वयन सहयोगी संस्थाएं , एन. पी. एम. यू , भारत सरकार , एस. पी. एम. यू. उत्तर प्रदेश सरकार ( डी. आई. पी. ) , आई. ई. सी. एक्सपर्ट , एस. पी. एम. यू. के सदस्य आदि कुल 200 प्रतिभागियों ने प्रतिभाग किया । 

कार्यक्रम के दौरान संस्थान के उपनिदेशक बी. डी. चौधरी , राकेश रंजन , अनुज श्रीवास्तव , सुबोध दीक्षित , सहायक निदेशक डॉ अशोक कुमार , डाॅ एस. के. चौहान , डाॅ योगेन्द्र सिंह एवं अन्य अधिकारी उपस्थित रहे । कार्यक्रम का संचालन अटल भूगर्भ जल योजना के प्रभारी एवं उपनिदेशक डॉ सुरेश सिंह ने किया । कार्यक्रम का संयोजन संस्थान के प्रशिक्षण समन्वयक नंद किशोर श्रीवास्तव ने किया।


,,,, 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें