Ticker

6/recent/ticker-posts

एक-एक रुपए के लिए तरस जाएगी पंचायतें, सरपंचों ने विरोध में खोला मोर्चा। Ajmer

 ऐसे तो खत्म हो जाएगी पंचायतें की स्वतंत्रता एक-एक रुपए के लिए तरस जाएगी पंचायतें राज्य सरकार के इस निर्णय से, अधिकारों को सीमित करने की शुरूआत तो नहीं है।

Subscribe Now www.6amnewstimes.com RAVINDRA YADAV LUCKNOW 12:01:2021



केन्द्र से भेजी जाने वाली राशि पीडी खाते में जमा कराने की खिलाफत, सरपंच बोले-पहले ही राज्य वित्त आयोग का पैसा दो साल से नहीं दिया जा रहा,ग्राम पंचायतों का इससे रुक जाएगा विकास,पंचायतीराज संस्थाएं होगी पंगु। 


Ajmer अजमेर. ग्राम पंचायतों की आर्थिक स्थिति पहले ही कमजोर है। विकास के नाम खुद के पास आय के स्त्रोत नहीं है। इसके बावजूद राज्य सरकार ने केन्द्र से मिलने वाली राशि को पीडी खाते में जमा कराने के आदेश दिए हैं। राज्य के सरपंच इसका विरोध कर रहे हैं। इसी को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाम ज्ञापन देने का निर्णय किया है। प्रदेश सरकार एवं वित्त विभाग की ओर से ग्राम पंचायतों के खाते में जमा होने वाली राशि को पीडी खाते में जमा किए जाने पर कई विसंगतियां पैदा हो जाएगी।

सरपंच को पीईओ की कमेटी का अध्यक्ष बनाना अपमानजनक। 

सरपंच संघ के अनुसार वर्तमान राज्य सरकार के कार्यकाल में विगत दो साल से पंचायतीराज संस्थाओं के प्रशासनिक व वित्तीय हितों पर कुठाराघात किया जा रहा है। एक तरफ पंचायत चुनाव व कोविङ -19 संक्रमण के दौरान पंचायतों की स्थिति दयनीय हो गई। वहीं दूसरी तरफ पंचायतीराज संस्थाओं की वित्तीय हालत बहुत नाजुक हो गई है। सरपंचों का कहना है कि ग्राम पंचायतों में सभी कमेटियों का अध्यक्ष सरपंच को बनाया जाता है, लेकिन सरकार पीईओ को कमेटी का अध्यक्ष बनाकर उन्हें कमजोर कर रही है।

11 जनवरी से शुरू आंदोलन का आगाज। 

अजमेर जिला सरपंच संघ अध्यक्ष हरिराम बाना ने बताया कि 11 जनवरी को संबंधित क्षेत्र के विकास अधिकारी को मुख्मंत्री के नाम ज्ञापन सौंपे जाएंगे। 13 जनवरी प्रदेश के संपूर्ण 33 जिलों के जिला मुख्य कार्यकारी अधिकारी और जिला कलक्टर को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिए जाएंगे और प्रदर्शन किए जाएंगे।


21 जनवरी को सभी ग्राम पंचायतों में सांकेतिक तालाबंदी व प्रदर्शन होगा। 30 जनवरी को जयपुर मे राजस्थान सरपंच संघ की ओर से आंदोलन की रणनीति पर विचार कर आगामी निर्णय किया जाएगा। प्रदेश स्तरीय मीटिंग में प्रदेशाध्यक्ष बंशीधर गढ़वाल, पूर्व प्रदेशाध्यक्ष भंवरलाल ज्ञानू, अजमेर जिला सरपंच संघ अध्यक्ष हरिराम बाना, सरपंच संघ पीसांगन अध्यक्ष शक्तिसिंह रावत आदि शामिल हुए।

पंचायतीराज संस्थाओं के अधिकार का हनन। 

पंचायतराज संस्थाओं के वित्तीय बजट को लेकर राज्य सरकार के नवीन आदेश के खिलाफ केकड़ी, सावर, सरवाड़, मसूदा, भिनाय, पीसांगन, सिलोरा, जवाजा, अजमेर ग्रामीण पंचायत समिति क्षेत्र के सरपंच 11 जनवरी को मुख्यमंत्री के नाम बीडीओ को ज्ञापन सौंपेंगे। इससे पहले पंचायत समिति मुख्यालय पर प्रदर्शन किया जाएगा। अजमेर जिला सरपंच संघ ने पंचायतीराज संस्थाओं के अधिकार का हनन बताया है।

पहले भी हो चुका है विरोध

जानकारों के मुताबिक दो साल पहले से राज्य सरकार ने पंचायतराज संस्थाओं को राज्य वित्त आयोग की राशि हस्तांतरित नहीं कर रही। अब केंद्र से प्राप्त राशि को भी राज्य सरकार पीडी खाते में जमा कराना चाह रही है। सरकार के इस निर्णय से गांवों का विकास अवरुद्ध होगा। पहले भी राज्य सरकार ने ऐसा ही आदेश जारी किया था, जिसका संपूर्ण प्रदेश में विरोध हुआ। इसको देखते हुए तत्कालीन पंचायतीराज मंत्री को आदेश रुकवाना पड़ा था।



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ