राजनीति

[politics][bigposts]

स्वास्थ्य

[health][bsummary]

ई-न्यूज पेपर

[e-newspaper][twocolumns]

अब लखनऊ तय करेगा पंचायत की सीटों पर आरक्षण की व्यवस्था, Up-panchayat-Elections-2021

पंचायत चुनाव 2021 👉 पहली बार लखनऊ तय करेगा पूरे प्रदेश में ग्राम सभा, बीडीसी, प्रधान और जिला पंचायत सदस्यों की सीटों पर आरक्षण की व्यवस्था,

रविंद्र यादव 6 एएम न्यूज़ टाइम्स लखनऊ, 9415461079 ; 


यूपी में पंचायत चुनाव में अब ग्रामीणों को आरक्षण सूची का इंतजार है। प्रशासनिक स्तर पर भी यह सूची बनाने की तैयारियां शुरू हो चुकी है। इस बार पंचायत चुनाव में सीटों के आरक्षण की व्यवस्था ऑनलाइन होने जा रही है। कोई भी घर बैठे पंचायत चुनाव के आरक्षण के बारे में पता कर सकेगा। इसके लिए उत्तर प्रदेश के सभी ग्राम पंचायतों की आरक्षण की सूची के लिए ब्लॉकों में जातीय आंकड़ों का डाटा फीड किया जा रहा है।

बता दें कि अभी तक ग्राम पंचायत सीटों पर आरक्षण निर्धारण जनपद मुख्यालय स्तर पर होता था, मगर इस बार ग्राम पंचायतों में ग्राम सभा, बीडीसी, प्रधान और जिला पंचायत सदस्यों की सीटों पर आरक्षण की ऑनलाइन व्यवस्था लखनऊ से तय होगी


पंचायतों में आरक्षण लागू करने के लिए राजस्व ग्रामों की जनसंख्या का आकलन किया जाएगा। पांच साल पहले चुनाव के समय ग्राम पंचायत की क्या स्थिति थी, वर्तमान में क्या स्थिति है, उसी आधार पर तय होगा कि उस ग्राम पंचायत की सीट किस प्रत्याशी के लिए आरक्षित होगी। अधिकारियों ने बताया कि ग्राम पंचायतों की वर्ष 2011 की जनसंख्या के आंकड़े फीड करा रहे हैं। ब्लॉकों को सीधे लखनऊ से जोड़ा गया है। इस बार पंचायत चुनाव का आरक्षण लखनऊ से ही तय होगा। आरक्षण सूची भी ऑनलाइन जारी होगी। कोई भी घर बैठे पंचायत चुनाव के आरक्षण के बारे में पता कर सकेगा।

डाटा फीडिंग का काम तेज :

पंचायत चुनाव के मद्देनजर जिले के तीनों तहसलों में डाटा फीडिंग का काम तीव्र वेग से चल रहा है। तहसील कर्मचारी बीएलओ के रिपोर्ट पर मतदाताओं का नाम काटने व जोड़ने का काम कर रहे हैं। साथ ही निर्वाचन कार्ड में जो त्रुटियां हैं उसे भी पुनरीक्षण के तहत सही कराया जा रहा है। ज्ञानपुर तहसील पर पुनरीक्षण का काम तेजी से चल रहा है। तहसीलदार ज्ञानपुर देवेंद्र कुमार ने बताया कि पंचायत चुनाव के तहत पुनरीक्षण कार्य चल रहा है। बीएलओ अपने गांव में सर्वे कर रिपोर्ट तहसील पर उपलब्ध करा रहे हैं। उसी आधार पर कंप्यूटर कक्ष में डाटा फीडिंग का काम चल रहा है। जिनका उम्र 18 वर्ष हो गया है उनका नाम मतदाता सूची में शामिल किया जा रहा है। जिनकी मौत हो गई और निर्वाचन लिस्ट में उनका नाम दर्ज है तो फार्म भरकर बीएलओ उसे कटवाने का काम कर रहे हैं। साथ ही निर्वाचन कार्ड में जो भी त्रुटियां हैं उसे सही कराया जा रहा है। तीनों तहसील में चल रहा डाटा फीडिंग का काम दो-तीन दिन में खत्म हो जाएगा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें