Ticker

6/recent/ticker-posts

UP DM Baliya : नाले में उतरे बलिया के डीएम, जलकुंभियों के बीच फंसी नाव तो अधिकारीयों के साथ उसे सिर पर उठाकर आगे बढ़े और सफर किया पूरा।

 नाले में उतरे बलिया के डीएम, जलकुंभियों के बीच फंसी नाव तो अधिकारीयों के साथ उसे सिर पर उठाकर आगे बढ़े और सफर किया पूरा। 

6AM NEWS TIMES Lucknow 

 बलिया। शहर में जलजमाव की समस्या से निजात के लिए कटहल नाले में सफाई का काम किया गया है। गुरुवार को डीएम एसपी शाही व सीडीओ विपिन जैन एनडीआरएफ के जवानों के साथ जलमार्ग से भ्रमण करने पहुंचे। बांसडीह रोड क्षेत्र के छोड़हर से लेकर जीराबस्ती, बहादुरपुर, देवकली होते हुए परमन्दापुर तक गए। कटहल नाले में देवकली गांव के सामने काफी ज्यादा मात्रा में जलकुंभी लगी होने पर बहाव भी बाधित था। ऐसा लगा कि आगे बढ़ पाना मुश्किल होगा। लेकिन जिलाधिकारी ने कहा कि कुछ भी हो यहां से आगे भी जाएंगे। एनडीआरएफ ने सुझाव दिया कि यदि नाव को आगे पहुंचा दिया जाए तो भ्रमण नहीं रुकेगा। 



इसके बाद डीएम स्वयं नाव को बाहर निकालने के लिए जुट गए। तो इसके बाद सीडीओ विपिन जैन, एसडीएम सदर राजेश यादव व डिप्टी कलेक्टर सर्वेश यादव भी जुटे। आखिरकार सभी ने नाव को कंधे पर उठाया और 100 मीटर आगे पानी में डालकर फिर आगे बढ़े। 


ग्रामीण की छत पर पहुंचे, नाले के रुके बहाव को देखा। 

 डीएम देवकली गांव में घर की छत पर पहुंचे। छत से नाले के रुके बहाव को देखा और नगर पालिका के ईओ को सफाई की जिम्मेदारी दी। यहां डीएम ने अफसरों के साथ चाय पर चर्चा की। डीएम की आमद पाकर गांव के प्रधान व अन्य लोग भी छत पर पहुंच गए। करीब आधे घंटे तक गांव के विकास पर चर्चा की गई।

अफसरों ने तलाशी टूरिज्म की संभावनाएं। 


डीएम एसपी शाही ने अफसरों के साथ टूरिज्म की संभावनाएं भी तलाशी। डीएम ने कहा कि, कटहल नाले के प्राकृतिक स्वरूप को बचाए रखने के साथ टूरिज्म की भी अपार संभावना है। वज​ह कि सुरहा ताल से गंगा नदी को यह नाला जोड़ता है। इसके दोनों तरफ पगडंडी बनाकर बोटिंग के माध्यम से इको टूरिज्म का प्रयास किया जा सकता है। हालांकि, इसके लिए बेहतर प्रोजेक्ट की आवश्यकता है, जिस पर पहल करने का प्रयास होगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ