राजनीति

[politics][bigposts]

स्वास्थ्य

[health][bsummary]

ई-न्यूज पेपर

[e-newspaper][twocolumns]

Kanpur ; बेकनगंज थाने के सिपाही मुश्ताक खां के जांबाज हौसले से खौफ में आए हजारों उपद्रवी।

 

बेकनगंज थाने के सिपाही मुश्ताक खां की बुलंद आवाज और जांबाज हौसले से खौफ में आए हजारों उपद्रवी।

6 AM NEWS TIMES : Edited by. Ravindra yadav Lucknow 9415461079, 04, Jun, 2022 : Fri, 04 : 07 PM 



बेकनगंज के सिपाही मुश्ताक खां की देशभक्ति, दिलेरी, और जांबाजी के साथ हौसले हजारों पथराव-बमबाजी, गोलीबारी करने वाले हजारों उपद्रवियों पे जीप लेकर कर दी चढ़ाई और टूट गए हजारों उपद्रवियों के इरादे और पीछे हटने पे कर दिया था मजबूर।


एसीपी अनवरगंज मोहम्मद अकमल खां व बेकनगंज के सिपाही मुश्ताक खां की देशभक्ति और दिलेरी ने पथराव-बमबाजी, गोलीबारी करने वाले हजारों उपद्रवियों को पीछे हटने पे कर दिया था मजबूर।


उत्तर प्रदेश के कानपुर में नई सड़क पर बवाल संभालने के लिए पुलिस फोर्स बहुत कम थी पर पांच जांबाजों ने मोर्चा संभाला तो हजारों की संख्या में पथराव-बमबाजी, गोलीबारी करने वाले उपद्रवियों को पीछे हटना पड़ा।




बवालियों के बीच बेकनगंज थाने के सिपाही मुश्ताक खां ने चिल्लाकर कहा कि सड़क खाली कर दो वरना जीप चढ़ा दूंगा। जिस वक्त भीड़ नई सड़क से सद्भावना चौकी की तरफ बढ़ रही थी उस वक्त वहां एसीपी अनवरगंज मोहम्मद अकमल खां के साथ पांच सिपाही मौजूद थे।


सिपाही मुश्ताक खां ने जीप उपद्रवियों की ओर तेज रफ्तार में दौड़ा दी। पब्लिक एड्रेस सिस्टम पर वह लगातार कहते रहे। ऐसे में भीड़ तितर-बितर हो गई। वह दस बार जीप उपद्रवियों की भीड़ के बीच से चीरते ले गया। मुश्ताक ने बताया कि भीड़ काफी उग्र थी। उन्हें इसके अलावा कुछ और समझ नहीं आया। लोगों को सुरक्षित प्राथमिकता पर थी।


एसीपी अनवरगंज अकमल खां

एसीपी अनवरगंज मोहम्मद अकमल खां मौके पर मौजूद थे। उनके साथ कुछ सिपाही थे। उग्र भीड़ को देखते हुए वह बेकनगंज थाने की जीप के पीछे चार सिपाहियों के साथ दौड़ पड़े। उन्होंने उपद्रवियों से मोर्चा लिया।







✔️✔️✔️✔️✔️✔️✔️✔️✔️✔️✔️✔️✔️✔️✔️✔️

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें