राजनीति

[politics][bigposts]

स्वास्थ्य

[health][bsummary]

ई-न्यूज पेपर

[e-newspaper][twocolumns]

वैश्विक महामारी के दौर मे बदहाली और गंदगी में जीवन जीने को मजबूर कौडियामऊ के हाजी चक गांव के निवासी

 स्वच्छ भारत मिशन को बदनाम करता बीकेटी क्षेत्र के कौडियामऊ ग्रामसभा का हाजी चक गांव यहां के लोग पिछले 6 माह से नाली के गंदगी के बीच जीने को https://youtu.be/ziU8X0d8aQw वैश्विक महामारी के दौर मे बदहाली और गंदगी में जीवन जीने को मजबूर कौडियामऊ के हाजी चक गांव के निवासी



। राजधानी लखनऊ के बीकेटी क्षेत्र की कौडियामऊ ग्रामसभा का हाजी चक गांव कहने को राजधानी का एक गांव है परंतु यहां के निवासी खुद को एक पिछड़े हुए जिले का एक उपेक्षित गांव से भी बदतर हालत में पाते हैं स्कूल प्रशासनिक अनदेखी कहें या क्षेत्रीय राजनीति की द्वेष भावना। हाजी चक गांव के सार्वजनिक रास्ते, नाली कूड़े से बजबजा रही है। वही सड़क के किनारे जगह जगह फैले कूड़े के ढेर खुद गांव में स्वच्छ भारत अभियान की हकीकत बयां कर रहे हैं। एक तरफ जहां इस महामारी के दौर में सरकार स्वच्छता अभियान जोर-शोर से चला रही है वहीं बीकेटी के कई गांव गंदगी से भरपूर हैं ग्राम हाजी चक में लोगों के आने-जाने के रास्ते पर कूड़ा कर्कट, नालियों का पानी और रास्ते पर झाड़ियां उग आई हैं जिनसे डेंगू मलेरिया जैसे मच्छरों की आबादी दिन पर दिन बढ़ रही है लेकिन जिम्मेदार अपनी जिम्मेदारियों से मुंह मोड़ते नजर आ रहे हैं। वही गाँव के ग्रामीणो का आरोप है कि जिम्मेदार अपने खास लोगों के तरफ साफ सफाई कराकर खाना पूर्ति कर ले रहे हैं । जबकि कई क्षेत्रों में गंदगी व कीचड़ के मारे डेंगू जैसी कई बीमारियां पनपने का डर सता रहा है । 6AM NEWS TIMES की टीम ने जब गांवों में पड़ताल की तो लोगों ने समस्याओं की जानकारी दी।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें